बी एल माली ‘अशांत’ री कवितावां

निज नै नाप !
सबदां रै साथ धोखो
खुद रै साथै धोखाधड़ी
समाज री पीठ पर घाव
ठंडी छांव बैठ
कद तांई करसी म्हारा बेली
कद तांई करसी !
थारै सिरजण मांय भरी है कळाबाज्यां
सबदां मांय भरियो है बिस
थारी भूख चरगी है थारी विकसित बुध
रचना कीकर बणैला अगनबीज
थूं खोखो हुयग्यो है
दमखम कोनी रैयो थारै भीतर
थूं रितो है ।
कद तांई दम भरतो रैसी म्हारा बेली
सिरजक हुवण रो ।
निज नै नाप म्हारा बेली, निज नै नाप !
थारी रचना मांय ल्हुक मेल्यो है मुनाफो
सास्वत चिंतन थारै सूं दूरै है
थारा नफा मांय चालता हाथ
कलम नै डूबो दीनी है पाणी मांय !
थूं वो लिखै म्हारा बेली
जिको लेखन नीं है !
थूं भूलग्यो है रचना धरम नै
थूं कीकर बीज सकैला क्रांतिबीज
धरती बांझड़ी कोनी
थूं सिरजक नीं है म्हारा बेली
थूं अपराधी है रचनाधर्मिता रो !
थूं समाज रो दोसी है ।
इज्जत खोसी है थूं
रचान री ! खुद री
अर साहित्य री…
***

1 टिप्पणी:

  1. आदरजोग बी.एल.माली जी 'अशांत' री कविता निज नैं नाप पढण रौ अवसर दे'वण खातर व्हाला भाई नीरज दइया जी नैं मोकळो धनवाद !

    सबदां रै साथ धोखो
    खुद रै साथै धोखाधड़ी
    समाज री पीठ पर घाव
    ठंडी छांव बैठ’र
    कद तांई करसी !



    थूं सिरजक नीं है
    थूं अपराधी है रचनाधर्मिता रो !
    थूं समाज रो दोसी है ।

    छदम सिरजकां नैं आछी फिटकार है, पण शरम किण नैं आवै अठै … ?

    म्हैं भी कहतो रैया करूं -

    रजथानी रै राज में , गुणियां रो ओ मोल !
    हंस डुसड़का भर मरै , कागा करै किलोळ !!

    रजथानी रै खेत नैं , चरै बजारू सांड !
    खेत धणी पच पच मरै , मौज करै सठ भांड !!


    घणी घणी मंगळकामनावां सागै
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं

Text selection Lock by Hindi Blog Tips