नंद भारद्वाज री कवितावां

पीव बसै परदेस
एक अणचींतै हरख
अर उमाव में थूं  उडीकै
मेड़ी चढ़ खुलै चौबारै
सांम्ही खुलतै मारग माथै
अटक्योड़ी रैवै अबोली दीठ
पिछांणी पगथळियां री सौरम
सरसै मन रा मरूथळ में
हेत भरियै हीयै सूं
उगेरै अमीणा गीत
अणदीठी कुरजां रै नांव
संभळावै झीणा सनेसा !
हथाळियां राची मेंहदी अर
गैरूं वरणै आभै में
चितारै अलूंणै उणियारै री ओळ
भीगी पलकां सूं
पुचकारै हालतौ पालणौ !
आंगणै अधबीच ऊभी निरखै
चिड़कलियां री रळियावणी रम्मत
माळां बावड़ता पाछा पंखेरू
छाजां सूं उडावै काळा काग
आथमतै दिन में सोधै सायब री सैनांणी !
च्यारूं कूंटां में
गरणावै गाढौ मूंन
काळजै री कोरां में
झबकै ओळूं री बीजळियां
सोपो पड़ियोड़ी बस्ती में
थूं जागै आखी रैण
पसवाड़ा फोरै धरती रै पथरणै !
धीजै री धोराऊ पाळां
ऊगता रैवै एक लीली आस रा अंकुर
बरसतां मेहुड़ां री छांट
मिळ जावै नेह रा रळकतां रेलां में !
पण नेह मांगै नीड़
जमीं चाहीजै ऊभौ रैवण नै
घर में ऊंधा पड़िया है खाली ठांव
भखारियां सूंनी      बूंकीजै -
खुल्ला करनाळा,
जीवण अबखौ अर करड़ौ है भौळी नार -
किरची किरची व्हे जावै
सपनां रा घरकोल्या:
वा हंसता फूलां री सोवन क्यार
वौ अपणेस गार माटी री गीली भींतां रौ
वा मोत्यां मूंघी मुळक -
हीयै रौ ऊमावौ:
जावौ बालम -
परदेसां सिधावौ !
थूं उडीकै जीवण री इणी ढाळ
अर रफ्तां-रफ्तां
रेत में रळ जावै सगळी उम्मीदां !
जिण आस में बरतावै आखौ बरस
वा ई कूड़ी पड़ जावै सेवट सांपरतां
परदेसां री परकम्मा रौ इत्तौ मूंघौ मोल -
मिनख री कीमत कूंतीजै खुल्लै बजारां !
आ सांची है के
परदेसां कमावै थारौ पीव
अर आखी ऊमर
थूं जीवै  पीव सूं परबारै !
***


भरोसैमंद आखर
म्हैं अहसानमंद हूं
मिनखपणै रा वां मोभी पूतां रो
जिकां री खांतीली मेधा
अर अणथक जतन
अमानवी-यातनावां सूं
            गुजरतां थका
भेळा कर पाया है कीं
भरोसैमंद आखर
जिका
आपां री भटक्योड़ी उम्मीदां साथै
            जुड़ता ई
खोल सकै एक नूवों मारग
      एक जीवंत लखांण
            परतख      
            अर असरदार
किणी धारदार हथियार री भांत
वै चीर सकै अंधारै रो काळजो
मुगती दिरा सकै
तळघर में कैद उण उजास नै
जिको दे सकै आंख्यां नै नूंवी दीठ
      ओप उणियारां नै
      एक अछेह आतम नै विस्वास-

जिण रै परवाण
उण दयानिधान री
नीयत पिछाणी जा सकै ।
***

टाबर रा सवाल
अबखा अर अबोट सवालां में
अणजाण हाथ घालणो
टाबर री आदत व्है-
आगूंच वो कीं अंदाजै कोनी
अबखाई रो अंत
अर थाग लेवण ऊतरतो जवै
      अंधारै बावड़ी पेड़ियां ।

टाबर रा वां अणची सवालां रो
वो ई पड़ूतर देवै
जिका आभाचूक हलक सूं बारै आय
      ऊभ जावै सांम्ही अर
हालात सूं बाथेड़ो करण री हूजत करै

जीसा !
आपां नै क्यूं देखणो पड़ै
कोई रै मूंड़ै सांम्ही,
क्यूं ऊभणो पड़ै राजमारग रै ऐड़ै-छेड़ै
बोलां कोई री अणूंती जै जै-कार
अर क्यूं कदेई अबोलो बैठणो पड़ै
आपांनै इंछा परबारै ?

कैड़ी अणचींती दुविधा है
एकांनी टाबर री भोळी इंछावां
            स्यांणी संकवां,
अलेखूं कंवळा सपना
अर बापरती काची नींद,
दूजै कांनी आ कुजबरी
परवसता री पीड़-
उणरी आंख्यां सांम्ही घूमै
टाबर री इंछावां
अर सवालां सूं जुड़ै उणरो मन,

सेवट धूजता पग
चाल पड़ै मत्तै ई उण गेलै
जिको एक अंतहीण जंगळ में
                  गम जावै-

कानां में फगत गूजती रैवै
टाबर री धूजती आवाज
थे यूं अणमणा कठीनै जावो जीसा !
दोफारां आपंनै सैर जावणो है-
म्हनै आजादी री परेड़ में साथै रैवणो है,
थे यूं अबोला कठीनै जावो जीसा ?
***

1 टिप्पणी:

  1. फूटरी कविता !
    "सोनो लेवण पिव गया, सूनो कर गया देश !
    सोनो मिल्यो न पिव मिल्या, चांदी होग्या केश !!"

    उत्तर देंहटाएं

Text selection Lock by Hindi Blog Tips